Home / Government schemes / महाभूलेख महाराष्ट्र राज्य भूमि अभिलेख (7/12 व 8अ) ऑनलाइन देखें online 7 12

महाभूलेख महाराष्ट्र राज्य भूमि अभिलेख (7/12 व 8अ) ऑनलाइन देखें online 7 12

महाभूलेख महाराष्ट्र राज्य भूमि अभिलेख (7/12 और 8अ) ऑनलाइन देखें mahabhulekh.maharashtra.gov.in ( online 7 12 )

  • महाभूलेख महाराष्ट्र सरकार द्वारा निर्मित एक ऑनलाइन पोर्टल है.
  • महाभूलेख वेब पोर्टल की निर्मिती महाराष्ट्र सरकार के भूमि रिकॉर्ड को कंप्यूटराइज्ड(Computerized)करने के लिए किया गया है .
  • महाभूलेख के माध्यम से भूमि के या जमीन के मालिक अपनी जमीन की 7/12 (ऑनलाइन सातबारा) और 8अ मालमत्ता पत्रक (मालकी हक्क online 7 12) ऑनलाइन नकल बड़ी आसानी से प्राप्त कर सकते हैं.
  • इस वेब पोर्टल भूमि दस्तावेज प्रणाली का अभ्यागत 1 नवंबर 2015 से बताया गया है, लेकिन हो सकता है इस वेबसाइट की शुरुआत 2012 में हुई थी (web.archive.org के अनुसार).
  • जमाबंदी आयुक्त और संचालक भूमि अभिलेख कार्यालय पुणे शहर महाराष्ट्र में है .
  • इस वेबसाइट को अच्छी तरह से देखने के लिए 1366 * 768 रिसॉल्यूशन ठीक रहेगा (Best viewed with resolution 1366 * 768 in Firefox,Google Chrome, IE).
  • किसी भी मोबाइल फोन में भी यह वेबसाइट पोर्टल अच्छी तरह से चलता है .

महाभूलेख online 7 12 महाराष्ट्र राज्य भूमि अभिलेख (7/12 व 8अ) ऑनलाइन देखें mahabhulekh.maharashtra.gov.in

महाभूलेख के फायदे

  • इस वेब पोर्टल में समस्त महाराष्ट्र के भूमि जमीन रिकॉर्ड शामिल है.
  • आप सभी अपने जमीन का विवरण 7/12 और 8अ मालमत्ता पत्रक (मालकी हक्क online 7 12 ) घर बैठे देख सकते हैं.
  • अगर आपको अपनी जमीन मालिकाना दस्तावेज के बारे में पता करवाना है तो पटवारी (तलाठी) के पास पटवारखाने (तलाठी सजा) जाने की जरूरत नहीं है.

महाभूलेख गाव नमुना नंबर 7/12 (online 7 12) और 8अ मालमत्ता पत्रक ऑनलाइन देखें

  • ऑनलाइन सातबारा देखने के लिए कृपया यहां क्लिक करें.
  • अब आपके सामने महाराष्ट्र सरकार महसूल विभाग का का वेब पेज खुला हुआ है.

महाभूलेख महाराष्ट्र राज्य भूमि अभिलेख (7/12 व 8अ) vibhag

महसूल विभाग जिला और तालुका का चयन करें

  • अब आपके सामने 6 महसूल विभाग(Revenue) दिख रहे हैं .
  1. अमरावती विभाग (Mahabhulekh Amravati)
  2. औरंगाबाद विभाग (Maha bhulekh Aurangabad)
  3. कोंकण विभाग (Maha bhulekh  Konkan)
  4. नागपुर विभाग (Maha bhulekh  Nagpur)
  5. नाशिक विभाग (Maha bhulekh  Nashik)
  6. पुणे विभाग (Mahabhulekh  Pune)

महाभूलेख महाराष्ट्र राज्य भूमि अभिलेख (7/12 व 8अ) ऑनलाइन देखें jilha nivad

  • तालुका चयन के बाद आपको आप 7/12 (सातबारा online 7 12)  8अ और मालमत्ता पत्रक में से किसी एक का चुनाव करना होगा .
  • इसके बाद आपको आपका जिला आपका तालुका और गांव का चुनाव करना होगा .
  • आप की जमीन का सर्वे नंबर / गट नंबर या आपके नाम में का कोई भी एक शब्द यहां पर लिखना चयन करना होगा .
  • इसके बाद आपको बस  7/12 पहा टैब पर क्लिक या टच करना है .
  • इसके बाद आपको महाभूलेख वेरीफिकेशन के लिए कैप्चा इंटर करना है.
  • आप की जमीन का सातबारा (7/12) मालमत्ता पत्रक या 8अ इनमें से कोई एक आपके सामने है .

online 7 12 Mahabhulekh महाभूलेख महाराष्ट्र राज्य भूमि अभिलेख (7 12 सातबारा व 8अ) ऑनलाइन देखें

महत्वपूर्ण सूचना

  • अगर आपको सातबारा 7/12 मालमत्ता पत्रक या 8अ नहीं दिखाई दे रहा है तो ब्राउज़र में से पॉप अप अन ब्लॉक कीजिए
  • अगर वेबसाइट वेब पोर्टल नहीं चल रही है तो संभवत यह कारण हो सकते हैं-

इस समय  महाराष्ट्र सरकार के महाभूलेख (Mahabhulekh) वेब पोर्टल का एक साथ बहुत सारे लोग इस्तेमाल कर रहे हैं.

इस कारण सर्वर (server) काम नहीं कर रहा है.

  • इस सूचना (online 7 12) का हेतु सिर्फ सामान्य जानकारी प्राप्त करना है.
  • इस ऑनलाइन दस्तावेज का न्यायालय या अन्य कार्यालय में प्रमाणित/ प्राधिकृत प्रति के रूप में इस समय तो भी प्रयुक्त नहीं किया जा सकता.
  • प्रमाणित/ प्राधिकृत प्रति के लिए दिए गए निर्धारित कियोस्क सेंटर या जन सुविधा केंद्र पर कृपया आवेदन करें.पटवारी (तलाठी सजा) के हस्ताक्षरित दस्तावेज (CSC सेंटर,आपले सरकार,तहसील कार्यालय,आदि)
  • Maharashtra Mahabhulekh ( Bhulekh  7 12) web portal For online land records – https://mahabhulekh.maharashtra.gov.in/

अपना खाता ई-धरती (apna khata) राजस्थान जमाबंदी नकल खसरा खतौनी नंबर गिरधावरी ऑनलाइन देखें

About abhinav

Check Also

व्यावसायिक संरचना के निर्धारक कारक

व्यावसायिक संरचना के निर्धारक कारक

Contents1 1. भौगोलिक कारक : 2 2. उत्पादक शक्तियों का विकास : 3 3. श्रम-विभाजन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.